National Population Policies History UPSC In Hindi

भारत की जनसंख्या नीतियों का विकास | National Population Policies History UPSC Notes In Hindi
भारत की जनसंख्या नीतियों का विकास | National Population Policies History UPSC In Hindi

आजादी से पहले भी, भारत की बढ़ती जनसंख्या समस्या के समाधान के लिए अलग अलग समितियों द्वारा सिफारिशें की गयी थी –

1. राधा कमल मुखर्जी समिति (1940):

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने 1921 के बाद तेजी से बढ़ने वाली जनसंख्या को रोकने के लिए समाधान सुझाने के लिए एक सामाजिक वैज्ञानिक राधा कमल मुखर्जी की अध्यक्षता में 1940 में एक समिति नियुक्त की।
समिति ने जनसंख्या वृद्धि की दर को कम करने के उपायों के रूप में निम्न सुझाव दिए –
आत्म-नियंत्रण, सस्ते और सुरक्षित जन्म नियंत्रण उपायों के बारे में जागरूकता पैदा करना, बहुविवाह को हतोत्साहित करना आदि ।

2. भोरे समिति:

इसने 1946 में अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की थी और इस समिति की स्थापना 1943 में की गई थी।
सर जोसेफ भोरे के अधीन स्वास्थ्य सर्वेक्षण और विकास समिति ने जनसंख्या वृद्धि को नियंत्रित करने के उपाय के रूप में ‘परिवार को जानबूझकर सीमित करने’ की सिफारिश की।
3. भारत 1950 के दशक में राज्य प्रायोजित परिवार नियोजन कार्यक्रम शुरू करने वाले पहले विकासशील देशों में से एक बन गया।
4. 1952 में एक जनसंख्या नीति समिति की स्थापना की गई थी।
5. 1956 में, एक केंद्रीय परिवार नियोजन बोर्ड की स्थापना की गई और इसका ध्यान नसबंदी पर था।
6. 1976 में, भारत सरकार ने पहली राष्ट्रीय जनसंख्या नीति की घोषणा की। नीचे क्लिक करके राष्ट्रीय जनसँख्या नीति 1976 को  पढ़े –

National Population Policy 1976 [UPSC Notes] | राष्ट्रीय जनसँख्या नीति 1976

आपातकालीन अवधि (1975-77) के दौरान , जनसंख्या वृद्धि को कम करने के लिए जबरदस्त उपायों का इस्तेमाल किया गया था। बड़े पैमाने पर जबरन नसबंदी की गई। हालाँकि, इसका उल्टा असर हुआ क्योंकि इसने सरकार के पूरे परिवार नियोजन कार्यक्रम को बदनाम  कर दिया जनता के बीच में अलोकप्रिय बना दिया ।

1977 में, आपातकाल समाप्त होने के बाद, नई सरकार जनता दल ने परिवार नियोजन में बल के प्रयोग को बंद कर दिया और परिवार नियोजन कार्यक्रम का नाम बदलकर परिवार कल्याण कार्यक्रम कर दिया गया।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति 1983 में अपनाई गई थी , जिसमें ‘स्वैच्छिक प्रयासों के माध्यम से छोटे परिवार के मानदंड को सुरक्षित करने और जनसंख्या स्थिरीकरण के लक्ष्य की ओर बढ़ने’ पर जोर दिया गया था।

1991 में जनसंख्या पर एक समिति नियुक्त की गई थी।

जिसने 1993 में अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की थी जिसमें उसने ‘विकास, जनसंख्या वृद्धि और पर्यावरण संरक्षण का दीर्घकालिक समग्र दृष्टिकोण’ लेने और ‘कार्यक्रमों के निर्माण के लिए नीतियों और दिशानिर्देशों का सुझाव देने’ और ‘लघु-मध्यम और दीर्घकालिक दृष्टिकोण और लक्ष्यों के साथ एक निगरानी तंत्र’ स्थापित करने के लिए एक राष्ट्रीय जनसंख्या नीति तैयार करने की सिफारिश की थी।

तदनुसार, राष्ट्रीय जनसंख्या नीति का मसौदा तैयार करने के लिए डॉ. एमएस स्वामीनाथन की अध्यक्षता में एक विशेषज्ञ समूह का गठन किया गया था। राष्ट्रीय जनसंख्या नीति अंततः 2000 में लागू हुई। नीचे क्लिक करके राष्ट्रीय जनसंख्या नीति 2000 को देखे –

National Population Policy 2000 UPSC Notes in Hindi | NPP 2000  | राष्ट्रीय जनसंख्या नीति 2000

जनसंख्या नीतियों के असफलता का कारण (Reasons of failure National Population Policies History UPSC In Hindi )

1. संकीर्ण दृष्टिकोण
केवल नसबंदी और गर्भनिरोधक आदि पर ही ज्यादा ध्यान केंद्रित किया गया बल्कि जनसंख्या नियंत्रण हेतु अन्य मुख्य विषय जैसे कि गरीबी निवारण, रोजगार , जीवन स्तर में सुधार शिक्षा का प्रसार आदि पर अवश्य ध्यान नहीं दिया गया।
2. जनसंख्या नियंत्रण से संबंधित नीतियाँ समाज में बड़े स्तर पर अपनी पहचान बनाने में सफल नहीं हो सकी। जिससे परियोजनाओं को सामाजिक समर्थन प्राप्त नहीं हो सका।
3. आपातकाल में जबरन नसबंदी –
आपातकाल के दौर में जबरदस्ती नसबंदी के प्रयासों ने राष्ट्रीय जनसंख्या नीति को समाज में अलोकप्रिय बना दिया।
4. सामाजिक और सांस्कृतिक मान्यताएं –
समाज में कुछ सांस्कृतिक और सामाजिक मान्यताओं के अनुसार बेटे को वरीयता दी जाती है। इस मानसिकता ने भी जनसंख्या नियंत्रण में बाधा उत्पन्न की है।
5. कानून का उचित कार्यान्वयन न होना –
PC-PNDT कानून का सही से कार्यान्वयन न हो पाना भी जनसंख्या नियंत्रण में एक चुनौती उत्पन्न करता है।

 

National Population Policies History UPSC In Hindi

RELATED POSTS –

National Population Policy 2000 UPSC Notes in Hindi | NPP 2000  | राष्ट्रीय जनसंख्या नीति 2000

National Population Policy 1976 [UPSC Notes] | राष्ट्रीय जनसँख्या नीति 1976

HKT BHARAT SOCIAL MEDIA ACCOUNTS –

FACEBOOK

KOO APP